in

बरसात के मौसम में सौन्दर्य सावधानियां – सौंदर्य Beauty Tips 17 July 2019

Beauty Tips By शहनाज हुसैन Shahnaz Husain

बारिश की फुहारें किसे अच्छी नहीं लगती। बरसात के मौसम में हरियाली की चादर ओढ़े धरती की प्राकृतिक छवि, सुंदर घाटियां, रिम-झिम बारिश में लम्बी ड्राइव, अपनों के साथ सायंकाल की शानदार पार्टी का आनन्द उठाने के लिए हम अक्सर आतुर रहते हैं। बरसात की ठण्डी फुहारें और इसके बाद तेज धूप की वजह से मौसम में उमस की गर्मी से त्वचा और पैरों से जुडी कई परेशानियां पैदा हो जाती हैं। इस मौसम में शादियों या पारिवारिक समारोहों में मौसम की मार झेल रही महिलाओं को मेकअप को बनाये रखना एक चुनौती से कम नहीं होता क्योंकि बारिश की फुहारों और पसीने से मेकअप धूल जाता है और चेहरा बदरंग हो जाता है जिससे आपका मूड़ खराब हो जाता है और समारोह की आभा भी खराब हो जाती है। बरसात के मौसम में त्वचा में खुजली, जलन, दाग आदि की समस्याएं खड़ी हो जाती हैं।
बरसात के मौसम में पसीने की वजह से दुल्हनों के सौन्दर्य तथा निखार में गंभीर समस्या पैदा होती है। इस समस्या को कुछ घरेलू आयुर्वेदिक नुस्खों से काबू पाया जा सकता है। मौसम में तपिस की वजह से पसीने तथा तैलीय रिसाव में भी वृद्धि होती है जो कि त्वचा पर जम जाते हैं जिससे त्वचा में चिकनाहट आ जाती है तथा यह धूल एवं प्रदूषण को आर्किर्षत करना शुरू कर देती है जिससे त्वचा अपना आर्कषण खो देती है तथा निर्जीव हो जाती है।
बरसात के मौसम में सौंदर्य के लिए गीली तथा पाउडर आधारित श्रृंगार सौंदर्य बेहतर मानी जाती है। बरसात के मौसम में ”कोमल, नाजुक तथा सरल एवं सादाÓÓ सौन्दर्य सर्वश्रेष्ठ नियम है। इस दौरान गीली तथा वाटर पू्रफ सौन्दर्य प्रसाधनों का प्रयोग किया जाना चाहिए। क्रीमी आधारित सौन्दर्य की बजाय पाउडर आधारित सौन्दर्य बेहतर एवं सार्थक साबित होता है।
बरसात के मौसम के दौरान दिन के समय का मेकअप हलका, सरल अति सूक्ष्म पूरी सावधानी से किया जाना चाहिए। अस्ट्रिन्जन्ट लोशन को बराबर मात्रा में गुलाब जल में मिलाकर फ्रिज में रख दें तथा त्वचा की सफाई के बाद ठन्डे लोशन को सूती कपड़े के पैड से त्वचा को रंगत प्रदान करने के लिए प्रयोग करें। इससे न केवल त्वचा को स्फूर्ति मिलेगी बल्कि इससे त्वचा के छिद्र बन्द करने में भी मदद मिलेगी। एक बर्फीली क्यूब को साफ कपड़े में लपेटकर इससे चेहरे को धो कर साफ कर लें, इससे चेहरे के छिद्र बंद करने में मदद मिलेगी। जब आप पाउडर प्रयोग कर रहें हो तब पाउडर को हलकी गिली स्पन्ज़ से पूरे चेहरे तथा गर्दन पर लगाएं जिससे यह त्वचा पर जम जाता है तथा लम्बे समय तक रहता है। कम्पैक्ट पाउडर लूज़ पाउडर की अपेक्षा ज्यादा चिर स्थाई रहता है तथा कोमल सजावट प्रदान करता है। वाटर प्रूफ मस्कारा तथा आई लाइनर से आंखों के मेकअप को गर्म ऋतु में बनाए रखने में मदद मिलती है। इस समय बाजार में वाटर प्रूफ तथा वाटर रोघक लिप कर्लस तथा लिप लाईनर भी उपलब्ध है। अपनी पलकों को भूरे या स्लेटी रंग की लाईन से ढकें तथा यह दिनभर आपको सौम्य स्वभाव प्रदान करेगा। लिपिस्टक प्रयोग करते वक्त हल्के गुलाबी रंग भूरे तथा बेगंनी रंग जैसे हल्के रंगों का प्रयोग करें। बशर्ते यह आपकी त्वचा के रंग के अनुकूल हो। यदि आपकी त्वचा का रंग पीला है तो नारंगी शेड की बजाय गुलाबी शेड अपनाएं। याद रखें कि रंग बहुत चमकीला नहीं होना चाहिए।
बरसात के मौसम में मलाईदार तथा तैलीय प्रदार्थों से बने सौंदर्य प्रसाधनों का कम से कम प्रयोग किया जाना चाहिए। शुद्ध ग्लिसरीन तथा शहद के प्रयोग से ज्यादा पसीना आ सकता है। मलाईदार फाउन्डेशन तथा आई शेडों का प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए। पाउडर शेड तथा ब्लशर ज्यादा सार्थक होते हैं। प्रसाधन सामग्री में हल्दी भीनी सुगन्ध
होनी चाहिए।
बरसात के मौसम के दौरान प्राकृतिक उत्पादों में गुलाब जल तथा गुलाब आधारित त्वचा टानिक उपयुक्त कहलाए जा सकते हैं। गुलाब प्राकृतिक तौर पर शीतलता वर्धक माना जाता है। खीरा, पपीता, नीबंू रस, खस से बने सौन्दर्य उत्पादों को गर्मी के दौरान सौन्दर्य सम्बन्धी समस्याओं के लिए प्रयोग किया जा सकता है।

#1 Beauty Precautions in Rainy Season

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

Report

What do you think?

500 points
Upvote Downvote

Written by Shehnaz Husain

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

सच का साथ दें, कड़ा परिश्रम करें : विवेक भाटिया

MEDICAL IMPORTANCE OF AMALTAS( CASSIA FISTULA) TREE